Click it!
HindiRachnakar - HindiRachnakar

माली की तलाश | Mali Ki talaash

माली की तलाश | Mali Ki talaash माली की तलाश । आओ तुम को में सुनाऊं , इस    चमन की दास्तां । कैसे  बिखरा पत्ता – पत्ता , कैसे  … Read More

बाबा कल्पनेश की छंद रचनाएँ | Pushp Aur kantak

बाबा कल्पनेश की छंद रचनाएँ | Pushp Aur kantak पुष्प और कंटक   छंद-दुर्मिल यह कैसा संकट,पथ के कंटक,फिर-फिर शीश उठाते हैं। ये डाली-डाली,हे उर माली,देखे पुष्प लुभाते हैं।। जो … Read More

प्रिय भाषा हिंदी / श्रवण कुमार पांडेय पथिक

प्रिय भाषा हिंदी / श्रवण कुमार पांडेय पथिक प्रिय भाषा हिंदी भाग्यशाली हूँ मैं जब जन्मा तो प्रथम, बधाई मिली मेरे पूज्य बाबा जी को, दादा आपके नाती पैदा हुआ … Read More

राष्ट्रभाषा हिंदी की हमारे देश में क्या स्थिति है – सीमा श्रीवास्तव

राष्ट्रभाषा हिंदी की हमारे देश में क्या स्थिति है – सीमा श्रीवास्तव विश्व में बहुत से देश है और सभी देशों में अलग-अलग भाषाएं बोली जाती है, भारत एक धर्मनिरपेक्ष … Read More

हिंदी की महत्ता / डॉ० सम्पूर्णानंद मिश्र

हिंदी की महत्ता / डॉ० सम्पूर्णानंद मिश्र हिंदी की महत्ता आदिकाल से हिंदी की अपनी एक महत्ता है। विभिन्न भाषा- भाषियों के बीच इसकी सत्ता है।। सूर, कबीर, तुलसी का … Read More

हिंदी पर छोटी सी कविता | short poem on hindi diwas

हिंदी पर छोटी सी कविता | short poem on hindi diwas हिन्दी का खोया सम्मान। संविधान  ने देवनागरी हिन्दी , को       सम्मान    दिया । जन-जन   की   भाषा  … Read More

Sankat- संकट/ बाबा कल्पनेश | ullaala chhand

Sankat- संकट / बाबा कल्पनेश | ullaala chhand संकट विधा-उल्लाला छंद जय उल्लाला जय कहो,जय बोलो हनुमान की। दत्त चित्त हो जय लिखो,भारत राष्ट्र महान की।। आतंकी की जय हुई,हार … Read More

Bharat Kaise Shreshth Ho – भारत कैसे श्रेष्ठ हो / सीताराम चौहान पथिक

Bharat Kaise Shreshth Ho – भारत कैसे श्रेष्ठ हो / सीताराम चौहान पथिक भारत कैसे श्रेष्ठ हो ॽ स्नेह गया आदर गया , नैनन  रही  ना लाज । सास- ससुर  … Read More

Swapn Mein tum – स्वप्न में तुम / सीताराम चौहान पथिक 

Swapn Mein tum – स्वप्न में तुम / सीताराम चौहान पथिक  स्वप्न में तुम स्मृतियां मधुर स्वर्णिम सुखद, स्वागत तुम्हारा आगमन । ऋतु शिशिर में वासन्ति तुम , मधुवन में … Read More

Daanavee Sahagaan – दानवी सहगान / बाबा कल्पनेश

Daanavee Sahagaan – दानवी सहगान / बाबा कल्पनेश गीतिका दानवी सहगान गीतिगा छंद विश्व में खतरा बढ़ाये,आग यह अफगान की। सँभल करके कदम रखना,चाल यह हैवान की।। आग कब पहचान … Read More

कॄष्ण जन्माष्टमी | Janmashtami Poem in Hindi

कॄष्ण जन्माष्टमी | Janmashtami Poem in Hindi   कॄष्ण जन्माष्टमी काल- कोठरी कंस  की , अवतरित हुए नंद  लाल । किए मुक्त माता-पिता , हुई मथुरा अवनि निहाल । कुरुक्षेत्र … Read More

कृष्ण जन्माष्टमी कविता | Krishna janmashtami hindi poetry

कृष्ण जन्माष्टमी कविता | Krishna janmashtami hindi poetry आ जाओ कान्हा प्यारे चलता रहेगा जीवन तेरी प्रीत के सहारे । राह देखती अंखियाँ मेरी आ जाओ कान्हा प्यारे। वृंदावन की … Read More

 जय-जय मदन गोपाल की / हरिश्चन्द्र त्रिपाठी ‘हरीश’

जय-जय मदन गोपाल की / हरिश्चन्द्र त्रिपाठी ‘हरीश’ श्रीकृष्ण जन्माष्टमी के पावन अवसर पर , ढेरों शुभ कामनाओं के साथ सादर,  हरिश्चन्द्र त्रिपाठी ‘हरीश’ की रचना पाठको के सामने प्रस्तुत … Read More

Jaago- Jaago Gopala | जागो- जागो गोपाला 

Jaago- Jaago Gopala – जागो- जागो गोपाला / सीताराम चौहान पथिक जागो- जागो गोपाला  जागो -जागो गोपाला , हुई भोर, उठो नंद  लाला । गोकुल की धेनु रंभावै , गोपियां – … Read More

Ruchi Savaiya – रुचि सवैया / बाबा कल्पनेश

Ruchi Savaiya – रुचि सवैया / बाबा कल्पनेश रुचि सवैया विधान-212×7+2 कौन सी है दिशा जान पाया नहीं अज्ञता में फँसा घूमता हूँ। मोह की है सुरा आज देखो पिया … Read More

error: Content is protected !!

You have successfully subscribed to the newsletter

There was an error while trying to send your request. Please try again.

HindiRachnakar will use the information you provide on this form to be in touch with you and to provide updates and marketing.

Subscribe to Hindi Rachnakar to get latest Post updates