Click it!
HindiRachnakar - HindiRachnakar

Bharat Mera Desh | भारत – मेरा देश

Bharat Mera Desh | भारत – मेरा देश भारत – मेरा देश  भारत मेरा देश है, मेरे जीवन का सार । भगवन मेरे देश को , देना शक्ति अपार । … Read More

Thoda Thak Gayee Hoon | थोड़ा थक गयी हूँ – डॉ. संध्या शर्मा

Thoda Thak Gayee Hoon / थोड़ा थक गयी हूँ – डॉ. संध्या शर्मा थोड़ा थक गयी हूँ थोड़ा   थक  गयी हूँ, दूर निकलना छोड़ दिया है। पर ऐसा नही है, कि … Read More

Mujhe Pata Hai | मुझे पता है – रश्मि संजय श्रीवास्तव

Mujhe Pata Hai / मुझे पता है – रश्मि संजय श्रीवास्तव  मुझे पता है  मुझे पता है .. तुम्हे अच्छा लगता है.. मेरा अपलक तुम्हे निहारते रहना! कनखियों से देखना, … Read More

कौन हैं | बंद है बात |  छत की मुंडेर – सम्पूर्णानन्द मिश्र

कौन हैं ? कौन हैं ये लोग ? जो सिर झुकाए खड़े हैं रोज आते हैं और रोज चले जाते हैं जो सिर्फ़ देख सकते हैं न सुन सकते हैं … Read More

Ishk- Khudaee | इश्क- खुदाई / सीताराम चौहान पथिक

Ishk- Khudaee | इश्क- खुदाई / सीताराम चौहान पथिक   इश्क- खुदाई । क्या क्या है मेरे दिल में , तुम्हें कह नहीं सकता । दिल पर जो गुजरती है … Read More

Kampit Chhataree | कंपित छतरी / रश्मि संजय श्रीवास्तव

Kampit Chhataree – कंपित छतरी / रश्मि संजय श्रीवास्तव कंपित छतरी मन को असंख्य संभावनाएं.. और..प्रेम को नवीन कल्पनाएं दे जाती है, तेज बारिश में साथ निभाती हुई.. कंपित छतरी! … Read More

Parakh – परख – सम्पूर्णानन्द मिश्र

Parakh – परख – सम्पूर्णानन्द मिश्र परख किस पायदान पर खड़े हैं मूल्यांकन हो इसका क्योंकि फूलों का पायदान पहुंचा तो सकता है शीर्ष पर लेकिन टिका नहीं सकता देर … Read More

Short Poem on Guru Purnima in Hindi | आदर्श शिष्य आरुणि

Short Poem on Guru Purnima in Hindi | आदर्श शिष्य आरुणि गुरु जी के प्रति शिष्य के भाव- सुमन । गुरु वर श्रद्धेय हमें तुमने , अपनी छाया में पाला … Read More

Guru Purnima Par Kavita |गुरु पूर्णिमा पर कविता

Guru Purnima Par Kavita – गुरु पूर्णिमा पर कविता आषाढ़ ऋतु की पूर्णिमा को गुरु पूर्णिमा मनाई जाती है। इस दिन शिष्य अपने गुरु के प्रति कृतज्ञता ′को व्यक्त करते … Read More

Parivaar Aur Ghar | परिवार और घर | ज़िन्दगी का सच

Parivaar Aur Ghar | परिवार और घर | ज़िन्दगी का सच परिवार और घर जीवन बड़ा है , दुखों का घड़ा है , ढालिए प्यार से , इसमें मोती जड़ा … Read More

Chuppiyaan | चुप्पियां – सम्पूर्णानन्द मिश्र

Chuppiyaan | चुप्पियां – सम्पूर्णानन्द मिश्र चुप्पियां टूटनी चाहिए चुप्पियां वक़्त पर ताकि जल न जाय झूठ की आंच पर सत्य की रोटी मानाकि चुकानी पड़ती है एक बहुत कीमत … Read More

रश्मि लहर की कविताये | Poems of Rashmi Lehar

रश्मि लहर की कविताये | Poems of Rashmi Lehar ना वो महकी हुई नदियाँ बहुत बेबस हुआ जीवन, बची केवल हैं कुछ सदियाँ! दरख्त हैं वो ना वो शाखें, ना … Read More

बृजेंद्र गति छंद | प्रभु राम – बाबा कल्पनेश

बृजेंद्र गति छंद | प्रभु राम – बाबा कल्पनेश बृजेंद्र गति छंद पाथेय से हर रोग टूटे खोना नहीं,तुम धैर्य साथी,साधना करना। पाथेय से,हर रोग टूटे,मत कभी डरना।। उस ईश … Read More

विरह गीत – दुर्गा शंकर वर्मा “दुर्गेश” | virah geet

विरह गीत – दुर्गा शंकर वर्मा “दुर्गेश” | virah geet प्रस्तुत गीत  वरिष्ठ गीतकार दुर्गा शंकर वर्मा “दुर्गेश”  के   द्वारा स्वरचित रचना  विरह गीत में प्रेमी और प्रेमिका  के   भाव … Read More

सरकारी उदासीनता, बढ़ता भ्रष्टाचार | Sarkari Udaaseenata, Badhata Bhrashtaachaar

सरकारी उदासीनता, बढ़ता भ्रष्टाचार | Sarkari Udaaseenata, Badhata Bhrashtaachaar सरकारी उदासीनता, बढ़ता भ्रष्टाचार । पछत्तर वर्ष स्वाधीनता, मिटा ना भ्रष्टाचार । इकडम तिकड़म लगा के, करते बंटाधार  ।। अकथ गरीबी … Read More

error: Content is protected !!

You have successfully subscribed to the newsletter

There was an error while trying to send your request. Please try again.

HindiRachnakar will use the information you provide on this form to be in touch with you and to provide updates and marketing.

Subscribe to Hindi Rachnakar to get latest Post updates