kisan aandolan par kavita- किसान आंदोलन पर कविता

kisan aandolan par kavita 

 कृषक आन्दोलन का इतिहास बहुत पुराना है और विश्व के सभी भागों में अलग-अलग समय पर किसानों ने कृषि नीति में परिवर्तन करने के लिये आन्दोलन किये हैं ताकि उनकी दशा सुधर सके।मोजुदा दौर में भारत में कृषक आंदोलन तेज गति से बढ़ रहे है इसका मुख्य कारण कृषक की आर्थिक हालत दिन प्रति दिन कमजोर हो रही है और वो कर्ज के मकड़ जाल में फंस रहा क्यों की मौजूद दौर में कृषि में लागत बढ़ रही है आमदनी घट रही है जिस कारण से किसानो में आत्म हत्या की घटनाए बढ़ रही है ।दूसरी तरफ लोग कृषि निति बदलवाने के लिए संघर्ष कर रहे है ।बर्ष 2017 में देश में छोटे बड़े सैकड़ो आंदोलन देश में हुए है सरकार को कृषि के सम्बन्ध में बोलने पर मजबूर किया है जिस में महारास्ट्र का जून 17 मेंगाँव बन्द हो चाहे नासिक से मुम्बई तक का मार्च हो राजस्थान में पानी व् बिजली के सवालो पर आंदोलन हरियाणा में 2015 में नरमें की फसल के खराबे पर मुअब्जे की मांग का आंदोलन हो तमिलनाडु के किसानो का महीनो तक संसद मार्ग पर धरना आदि मुख्यत रहे है । 

 किसान आंदोलन पर कविता 


भटकती जनता की ओर नजरें डालकर तो देखो,

पूरी दुनिया को भोजन खिलाकर,

अपने परिवार को भूखा रखकर तो देखो,

  बदहाल किसान की हालत तो देखो,

संसद में बैठे रहनुमाओं को तो देखों,

भटकता है किसान दर-ब-दर सड़कों पर,

लिए गठरी मेहनत की,

कौन बोले इन अफसरों से,

तुम्हारी रहनुमाई चलती इन किसानों से।

  मैं नहीं मांगता खैरात में किसी से कुछ,

एक बार मेरी मेहनत का सही मूल्य दिलाकर तो देखो,

सोने की चिड़िया फिर से बन जाएगा भारत,

एक बार किसानों को उनका हक दिलाकर तो देखो।

 

kisan- aandolan- par- kavita
दयाशंकर साहित्यकार

 

दया शंकर की अन्य लेख पढ़े :

आपको kisan aandolan par kavita- किसान आंदोलन पर कविता / दया शंकर की  रचना  कैसी लगी अपने सुझाव कमेन्ट बॉक्स मे अवश्य बताए अच्छी लगे तो फ़ेसबुक, ट्विटर, आदि सामाजिक मंचो पर शेयर करें इससे हमारी टीम का उत्साह बढ़ता है।

हिंदीरचनाकार (डिसक्लेमर) : लेखक या सम्पादक की लिखित अनुमति के बिना पूर्ण या आंशिक रचनाओं का पुर्नप्रकाशन वर्जित है। लेखक के विचारों के साथ सम्पादक का सहमत या असहमत होना आवश्यक नहीं। सर्वाधिकार सुरक्षित। हिंदी रचनाकार में प्रकाशित रचनाओं में विचार लेखक के अपने हैं और हिंदीरचनाकार टीम का उनसे सहमत होना अनिवार्य नहीं है।|आपकी रचनात्मकता को हिंदीरचनाकार देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए help@hindirachnakar.in सम्पर्क कर सकते है| whatsapp के माद्यम से रचना भेजने के लिए 91 94540 02444, ९६२१३१३६०९  संपर्क कर कर सकते है।

4 thoughts on “kisan aandolan par kavita- किसान आंदोलन पर कविता

  1. धन्यवाद प्रकाशक महोदय आपने हमारी व किसाने की भावनाओं को सम्मान दिया और लोगों तक मेरी विचारधार पहुंच सके इसका आपने माध्यम बनाया में पूरे हिंदी परिवार की ओर से इस चैनल को धन्यवाद देता हूं ।

  2. अति सुन्दर कविता है, इसे पढ़कर किसान कि
    यथार्थ स्थिति कि जानकारी मिलती है

  3. मार्मिक विचार प्रस्तुत किये गए जो वास्तविकता को दिखाते हैं।

  4. अशोक कुमार (असिस्टेंट प्रोफेसर) says:

    कृषक पीड़ा का मार्मिक वर्णन

Leave a Reply

Your email address will not be published.