Click it!
HindiRachnakar - Page 2 of 24 - HindiRachnakar

Hindi Geet Rajguru Bhagat Singh Sukhdev

Hindi Geet Rajguru Bhagat Singh Sukhdev राजगुरु –भगतसिंह–सुखदेव राजगुरु-सुखदेव-भगत की,आओ हम सब जय बोलें। इनकी जय-जयकार बोलकर,निज जीवन में रस घोलें।।   ये प्राणों की आहुति देकर,शुभ  मंगलमय  दिन लाए। … Read More

Holi Par kavita-होली पर साहित्यिक कविता

Holi Par kavita होली होली आई होली आई रंगों की बौछारे लाई अपने साथ उमंगे लाई होली तो आती है पर पहले सा उत्साह नहीं रंगों की अगर बात करें … Read More

बेरोजगारी पर कविता-Hindi Poem Unemployment

बेरोजगारी पर कविता| Hindi Poem Unemployment बेरोज़गारी की समस्या बेरोजगारी की समस्या– इतनी ज्यादा जड़ें जमा चुकी है कि इसके समक्ष न जानें कितनी प्रबल आकाँक्षाएँ और जाने कितने स्वप्न … Read More

Poem on World water day in hindi- पानी से ही जीवन अपना

Poem on World water day in hindi पानी से ही जीवन अपना पानी से ही जीवन अपना,जीवन के हर सपने। जान-जान अनजान बन रहे,युग जन जितने अपने।। कौन भला समझा … Read More

Akhabaar Baal Kavita-सीताराम चौहान पथिक

Akhabaar Baal Kavita अखबार  बाल – कविता बाबा का अखबार खो गया , पारा उनका पार हो गया । मम्मी- पापा पर वह बिगड़े , ला – परवाह हो, तभी … Read More

Preeti Chitran Garg – Yaatra Diary /कवि भारमल गर्ग सांचौर

Preeti Chitran Garg – Yaatra Diary मौन धारण कर वचन मेरे मौन धारण कर वचन मेरे, लज्जा आए प्रीत मेरे । मगन प्रेम सांसे सत्य ही है, शब्द अनुराग है … Read More

Main aur Meree Tanhaee/आनन्द कुमार “आनन्दम्”

Main aur Meree Tanhaee : आनन्द कुमार “आनन्दम्” की रचना मैं और मेरी तन्हाई में लेखक ने अपने  भाव अपनी कविता में प्रस्तुत किया है – मैं और मेरी तन्हाई! … Read More

Gauriya diwas par kavita/ दुर्गा शंकर वर्मा “दुर्गेश” रायबरेली

Gauriya diwas par kavita: प्रति वर्ष २० मार्च को  पूरा संसार विश्व गौरैया दिवस मनाता है जो पक्षियों के प्रति जागरूकता  को बढ़ावा देता है।  इस दिवस का मुख्य उद्देश्य … Read More

पुस्तक समीक्षा साक्षी है समय/हूबनाथ, प्राध्यापक

पुस्तक समीक्षा साक्षी है समय/हूबनाथ, प्राध्यापक साक्षी है समय पुस्तक समीक्षा कविता पीड़ा, यातना, ताप, शाप से सिर्फ़ राहत ही नहीं होने देती, सोए हुए ज़मीर को, विवेक को, आक्रोश … Read More

छप्पय छंद और गंगोदक सवैया/बाबा कल्पनेश

छप्पय छंद और गंगोदक सवैया 1 . छप्पय छंद करना यदि सत्संग,चले देवरी तक आएं। शिव का पावन धाम,करें दर्शन हरषाएं।। संत रसमयानंद,किया करते शिव पूजन। वेद मंत्र का गान,हिया … Read More

Baal kavita chhaatr kee vedana/सीताराम चौहान पथिक

छात्र की वेदना (बाल कविता ) Baal kavita chhaatr kee vedana बस्ते भारी हो गये , कोई तनिक उठाए । शिक्षा के अधिकारियों , कुछ तो करो उपाय । पीने … Read More

Charitra Nirman Par kavita/डॉ० सम्पूर्णानंद मिश्र

चरित्र (Charitra Nirman Par kavita) व्यापक शब्द,चरित्र वैविध्य गुणों को लेकर अपने पेट में न जाने कितने कालखंड से आंधी की मार सहते हुए चला आ रहा है लोगों की … Read More

With nida fazli-निदा फाज़ली के साथ/आशा शैली

With nida fazli-निदा फाज़ली के साथ/आशा शैली किसी ने बताया, आज निदा फाज़ली का जन्मदिन है। मुझे कपूरथला के मुशायरे के वे दो दिन याद आ गए । सन् तो याद नहीं पर उन दिनों … Read More

Jogin Urmila/सीताराम चौहान पथिक

जोगिन ऊर्मिला । (Jogin Urmila) मैं कैसे कहती — आर्य , मुझे    संग     ले   लो । अपनी  पीड़ाएं – क्लेश , मुझे   तुम      दे    दो … Read More

Hindi kavita Yah log/भारमल गर्ग सांचौर

यह लोग (Hindi kavita Yah log) ताकता हूं रंगीन सितारों को जमीन पर । फिर आसमान क्यों बताते हैं यह लोग ।। मोहब्बत मुकमल नही होती गर्ग । फिर क्यों … Read More

error: Content is protected !!

You have successfully subscribed to the newsletter

There was an error while trying to send your request. Please try again.

HindiRachnakar will use the information you provide on this form to be in touch with you and to provide updates and marketing.

Subscribe to Hindi Rachnakar to get latest Post updates