Click it!
HindiRachnakar - Page 24 of 27 - HindiRachnakar

rishte poetry in hindi-रिश्तो पर कविता /कल्पना अवस्थी

rishte poetry in hindi रिश्तो पर कविता /कल्पना अवस्थी    जिन रिश्तों को दिल से ना निभाया जाए फिर कभी ऐसे रिश्तों को ना बनाया जाए हर रिश्ता विश्वास की … Read More

Sitaram chauhan pathik kavita/तो हम जानें

Sitaram chauhan pathik kavita तो हम जानें यूं तो करते हैं एहसान सभी अपनों पर , ये एहसान गैरों पे करो – तो हम जानें । लुटाते हो  रेवड़ियां — … Read More

Moral story in hindi-मुआवज़ा/आरती जायसवाल

  Moral story in hindi मुआवज़ा राह में खड़ी गाय को हट -हट करते हुए दीनू काका अपना हाथ ठेला आगे बढ़ा रहे थे ।दूर-दूर से आकर प्रयाग में रहने वाले … Read More

hindi kavita prem ka path-प्रेम का पथ/संपूर्णानंद मिश्र

  hindi kavita prem ka path   प्रेम का पथ  प्रेम है पथ समर्पण ‌का प्रेम है पथ अर्पण का प्रेम है पथ त्याग का प्रेम ही पथ जीवन का … Read More

Hindi kavita jeevan ke rang-जीवन के रंग/सीताराम चौहान पथिक

 Hindi kavita jeevan ke rang        जीवन  के  रंग   नील- गगन में उड़ा जा रहा था हंसो का जोड़ा ,  आखेटक था खड़ा ताक में , बाण वहीं … Read More

Biography of asha shailee- आशा शैली का जीवन परिचय

साहित्य जगत का एक नन्हा सा जुगनू (biography of asha shailee)      साहित्य जगत में शनै-शनै अपनी रोशनी बिखेरती, हिन्दी, उर्दू, पंजाबी, डोगरी, महासवी (हिमाचली), ओड़िया एवं उत्तराखण्डी भाषाओं … Read More

kavita khilaaf hai jhooth-ख़िलाफ़ है झूठ/ सम्पूर्णानंद मिश्र

kavita khilaaf hai jhooth ख़िलाफ़ है झूठ फल है तुम्हारी निरंतर साधना का मिला है जिस वजह से नाम तुम्हें यह सच का घबराते हैं तुम्हारी प्रखरता से झूठ के … Read More

narendra singh baghel ka geet/ नरेन्द्र सिंह बघेल का गीत

 narendra singh baghel  ka  geet कितनी रातें छली गयीं कितने दर्द छुपाए दिल में,   कितनी रातें चली गयीं। अलसाये अनुबंधों से फिर, कितनी रातें छली गयीं।।   हमने जीवन में देखा था, सुंदर … Read More

poem on matrbhasha in hindi/मातृभाषा हिंदी-अखिलेश प्रताप सिंह

poem on matrbhasha in hindi मातृभाषा हिंदी अंग्रेजी या आंग्ल भाषा, का चुभता सदा है शूल,  हिंदी हिंदुस्तान की भाषा, सब गए हैं भूल  ।।  माँ”, पिताजी कहने में, अब … Read More

Baba kalpnesh ke geet-यह कैसी नादानी/बाबा कल्पनेश

Baba kalpnesh ke geet       यह कैसी नादानी      जल से भरी नदी पर प्यासी,खोज रही है पानी, अपना घाट छोड़ कर दर-दर,यह कैसी नादानी। कुछ दिन … Read More

poetry on manzil | मंजिल के पास पहुँचकर भी हारती रही मैं – कल्पना अवस्थी

 poetry on manzil   मंजिल के पास पहुँचकर भी हारती रही मैं   मंजिल के पास पहुँचकर भी हारती रही मैं फिर भी बिखरे सपनों को संवारती रही मैं लड़ती … Read More

Biography Dr. Rasik Kishore Singh Neeraj/ जीवन परिचय

डॉ. रसिक किशोर सिंह नीरज का व्यक्तित्व  (Biography Dr. Rasik Kishore Singh Neeraj) परिचय  जन्म : 03.01.1965  कवितांगन मुरवल-210121 बाँदा (उ0प्र0)  पिता:  – शिवलाल सिंह  शिक्षा    : शास्त्री, आयुर्वेदरत्न, एम0 ए0, पी-एच0डी0, ब्वायलर अटेंडेंट,जी०डी०एम०एम०, … Read More

Maa par kavita-ममता का आँचल/सीताराम चौहान पथिक

 Maa par kavita       ममता  का  आँचल मां , मुझे इक बार आंचल  में , छिपा लो —-थक गया    हूं  । ममता भरी  लोरी सुना  दो  , … Read More

Poet indresh bhadoriya poems in awadhi

  poet indresh bhadoriya poems in awadhi बाकी हम काम बनाय ल्याब बसि बीस बराती लै आयो,  बाकी हम काम बनाय ल्याब।    है अबै कोरोना समय चलत, आदेस भवा सरकारी … Read More

maa par kavita in hindi-माँ का जाना और यह सूनापन/शैलेन्द्र कुमार

 maa par kavita in hindi माँ  का जाना और यह  सूनापन हो   गए    कंधे सूने   मेरे जिन पर हाथ रख तुम  चला करती थी। हो गई  हथेलियाँ सूनी जिनमें … Read More

error: Content is protected !!

You have successfully subscribed to the newsletter

There was an error while trying to send your request. Please try again.

HindiRachnakar will use the information you provide on this form to be in touch with you and to provide updates and marketing.

Subscribe to Hindi Rachnakar to get latest Post updates