bhavishy ka pankh/डॉ० सम्पूर्णानंद मिश्र

भविष्य का पंख

(bhavishy ka pankh)


भविष्य का पंख जहां
हमारी आशाओं को
उड़ाता है
तोड़ता है
स्वप्नों को भी वहीं वह
तो क्या यह मान लिया जाय
भविष्य एक मीठा छलावा है
जो आकांक्षाओं के
उड़नखटोले पर बैठाकर
इतना लापरवाह बनाता है
मनुष्य को
कि हमारी वर्तमान की
नित्य क्रियाएं उसकी
क्रीतदासी हो जाती हैं
और उसी रंगीन दुनिया के
रंगीन ख़्वाबों को
जीवन का सत्य माने बैठती हैं
दिखाकर अपने
रूपस चेहरे को भविष्य
लूटता है वर्तमान को
और
उसकी आंखों में पल रही
एक रंगीन दुनिया की
सुनहरी इच्छाओं की निर्मम
भ्रूण हत्या कर देता है

bhavishy- ka- pankh

डॉ० सम्पूर्णानंद मिश्र
प्रयागराज फूलपुर
7458994874

अन्य रचना पढ़े :

आपको bhavishy ka pankh/डॉ० सम्पूर्णानंद मिश्र की रचना कैसी लगी अपने सुझाव कमेंट बॉक्स में अवश्य बतायें। 

हिंदीरचनाकार (डिसक्लेमर) : लेखक या सम्पादक की लिखित अनुमति के बिना पूर्ण या आंशिक रचनाओं का पुर्नप्रकाशन वर्जित है। लेखक के विचारों के साथ सम्पादक का सहमत या असहमत होना आवश्यक नहीं। सर्वाधिकार सुरक्षित। हिंदी रचनाकार में प्रकाशित रचनाओं में विचार लेखक के अपने हैं और हिंदीरचनाकार टीम का उनसे सहमत होना अनिवार्य नहीं है।|आपकी रचनात्मकता को हिंदीरचनाकार देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए help@hindirachnakar.in सम्पर्क कर सकते है| whatsapp के माद्यम से रचना भेजने के लिए 91 94540 02444, ९६२१३१३६०९ संपर्क कर कर सकते है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.