राष्ट्रभाषा हिंदी की हमारे देश में क्या स्थिति है – सीमा श्रीवास्तव

राष्ट्रभाषा हिंदी की हमारे देश में क्या स्थिति है – सीमा श्रीवास्तव विश्व में बहुत से देश है और सभी देशों में अलग-अलग भाषाएं बोली जाती है, भारत एक धर्मनिरपेक्ष … Read More

पुलिस पीर जाने नहिं कोई / अशोक कुमार गौतम

पुलिस पीर जाने नहिं कोई ‘पुलिस मित्र’ किसे कहा गया है  भारत की संस्कृति विश्व की प्राचीन संस्कृतियों में एक है। संस्कृति का अर्थ है- उत्तम या सुधरी हुई स्थिति। … Read More

sookshm avalokan/ दया शंकर का सूक्ष्म अवलोकन

क्या, लोक भाषा में सामान्य बोल–चाल तथा साहित्य की  भाषा में अन्तर नहीं होना चाहिये? sookshm avalokan: विगत में कुछ लम्बी अवधि से मैं अवलोकन करता आ रहा हूँ कि क्षेत्रीय बोली के नाम पर अधिकतर व्यक्ति,बोलते कुछ हैं और लिखते कुछ हैं  … Read More

bhaarateey saahity lekhan mein striyon kee bhoomika

(bhaarateey saahity lekhan mein striyon kee bhoomika) महादेवी वर्मा   भारतीय साहित्य लेखन में स्त्रियों की भूमिका (bhaarateey saahity lekhan mein striyon) भारत प्राचीनकाल से ही तार्किक, आध्यात्मिक, दार्शनिक तथा … Read More

Indian languages -भारतीय भाषाएँ : दशा, दिशा और भविष्य

भारतीय भाषाएँ : दशा, दिशा और भविष्य (indian languages) दयाशंकर   indian languages :सारी भारतीय भाषाएं अपने जीवन के सबसे गंभीर संकट के मुहाने पर खड़ी हैं। यह संकट अस्तित्व … Read More

hindi diwas par jankari – हिंदी हमारी है/दयाशंकर

  hindi diwas par jankari : सरकार अपने स्तर पर, हिंदी कार्यक्रम, प्रतियोगिताएँ,परिचर्चाएँ, संगोष्ठियाँ, सम्मेलन, बैठकें और नृत्य, गीत-संगीत के कार्यक्रम आदि हिंदी के लिए कराती हैं, विश्व में उतने कहीं … Read More

Ashok Kumar Gautam /चीफ प्रॉक्टर अशोक कुमार गौतम

” अंग्रेजी के अल्पज्ञान ने हिंदी को पंगु बना दिया है।” (Ashok Kumar Gautam) तकनीकी युग में ‘हिंदी रचनाकार’ वेबसाइट ने हिंदी को विश्वपटल पर स्थापित करने वीणा उठाया है, … Read More