Click it!
August 2021 - HindiRachnakar

कॄष्ण जन्माष्टमी | Janmashtami Poem in Hindi

कॄष्ण जन्माष्टमी | Janmashtami Poem in Hindi   कॄष्ण जन्माष्टमी काल- कोठरी कंस  की , अवतरित हुए नंद  लाल । किए मुक्त माता-पिता , हुई मथुरा अवनि निहाल । कुरुक्षेत्र … Read More

कृष्ण जन्माष्टमी कविता | Krishna janmashtami hindi poetry

कृष्ण जन्माष्टमी कविता | Krishna janmashtami hindi poetry आ जाओ कान्हा प्यारे चलता रहेगा जीवन तेरी प्रीत के सहारे । राह देखती अंखियाँ मेरी आ जाओ कान्हा प्यारे। वृंदावन की … Read More

 जय-जय मदन गोपाल की / हरिश्चन्द्र त्रिपाठी ‘हरीश’

जय-जय मदन गोपाल की / हरिश्चन्द्र त्रिपाठी ‘हरीश’ श्रीकृष्ण जन्माष्टमी के पावन अवसर पर , ढेरों शुभ कामनाओं के साथ सादर,  हरिश्चन्द्र त्रिपाठी ‘हरीश’ की रचना पाठको के सामने प्रस्तुत … Read More

Jaago- Jaago Gopala | जागो- जागो गोपाला 

Jaago- Jaago Gopala – जागो- जागो गोपाला / सीताराम चौहान पथिक जागो- जागो गोपाला  जागो -जागो गोपाला , हुई भोर, उठो नंद  लाला । गोकुल की धेनु रंभावै , गोपियां – … Read More

Ruchi Savaiya – रुचि सवैया / बाबा कल्पनेश

Ruchi Savaiya – रुचि सवैया / बाबा कल्पनेश रुचि सवैया विधान-212×7+2 कौन सी है दिशा जान पाया नहीं अज्ञता में फँसा घूमता हूँ। मोह की है सुरा आज देखो पिया … Read More

हिन्दी दिवस पर कविता | Poems on Hindi Diwas in Hindi

हिन्दी दिवस पर कविता | Poems on Hindi Diwas in Hindi १४ सितम्बर १९४९  जब भारत सरकार  ने निर्णय लिया हिन्दी दिवस मनाने का भारत देश में , इस दिन  … Read More

Daakiya – डाकिया / उदय राज वर्मा उदय

Daakiya – डाकिया / उदय राज वर्मा उदय डाकिया डाकिया आता खुशखबरी लाता कभी कभी रुपए की थैली पकड़ाता मन गदगद हो जाता बुरी परिस्थितियों में दुखद खबर भी सुनाकर … Read More

सिकंदर  महान और राख / सीताराम चौहान पथिक

सिकंदर  महान और राख / सीताराम चौहान पथिक संगीत  – रूपक सिकंदर  महान और राख । एक सुनसान जगह पर उड़ती हुई राख की ढेरी, जिसके निकट से कवि गुजरता … Read More

झम- झम बरसा पानी | वर्ण – माला गीत / सीताराम चौहान पथिक

झम- झम बरसा पानी | वर्ण – माला गीत / सीताराम चौहान पथिक बाल- गीत  झम- झम बरसा पानी छम- छम गिरता पानी , खूब नहाती रानी । ना- ना … Read More

तुलसीदास / बाबा कल्पनेश

तुलसीदास / बाबा कल्पनेश तुलसीदास विधा-मात्रिक सवैया(वीर छंद)16,15 राम चरित मानस की रचना,रच के तुलसीदास महान। अमर हो गये इस धरती पर,मानवता का कर कल्यान।। शिशुता बीती बहुत कठिन पर,जिस … Read More

पोषक रक्षाबंधन है /हरिश्चन्द्र त्रिपाठी ‘हरीश’

पोषक रक्षाबंधन है /हरिश्चन्द्र त्रिपाठी ‘हरीश’ पोषक रक्षाबंधन है भाई-बहन के अमर प्रेम का, पोषक रक्षाबंधन है , धन्य देश की पावन माटी, कण-कण जिसका चन्दन है।। रेशम के दो … Read More

आ गया राखी का त्यौहार / डॉ ब्रजेन्द्र नारायण द्विवेदी  शैलेश

आ गया राखी का त्यौहार / डॉ ब्रजेन्द्र नारायण द्विवेदी  शैलेश आ गया राखी का त्यौहार आ गया राखी का त्यौहार बहना का भैया पर अपने बरसेगा शुभ प्यार।। आ … Read More

सदा सदा अभिनंदन है | रक्षाबंधन – प्रतिभा इन्दु

सदा सदा अभिनंदन है | रक्षाबंधन – प्रतिभा इन्दु सदा सदा अभिनंदन है ……………………… आज आरती थाल बहन ने भरकर प्यार सजाया है , मुदित और हर्षित है तन-मन राखी … Read More

Admi Aur Kutta – आदमी और कुत्ता / सम्पूर्णानन्द मिश्र

Admi Aur Kutta – आदमी और कुत्ता / सम्पूर्णानन्द मिश्र आदमी और कुत्ता कल झुंड में कई कुत्ते दिखे मुझे सड़क पर भौंक रहे थे सब आपस में एक दूसरे … Read More

Jung Aur Aman – जंग  और अमन / सीताराम चौहान पथिक

Jung Aur Aman – जंग  और अमन / सीताराम चौहान पथिक जंग  और अमन  ज़िन्दगी सरगम है इक – – – , रागों में गाता जा रहा हूं । तार … Read More

error: Content is protected !!

You have successfully subscribed to the newsletter

There was an error while trying to send your request. Please try again.

HindiRachnakar will use the information you provide on this form to be in touch with you and to provide updates and marketing.

Subscribe to Hindi Rachnakar to get latest Post updates