bhool se na kisee ka bhee dil todiye/ममता सिंह

भूल से न किसी का भी दिल तोड़िये.

(bhool se na kisee ka bhee dil todiye)


जोड़ना    है   अगर टूटे दिल जोड़िये.
भूल से न किसी का भी दिल तोड़िये.

हम खिलायें मुहब्बत का एक गुलिस्ताँ.
जिसकी खूश्बू से महके धरा आसमां.
रब की नेमत है इससे न मुंह मोड़िये.
भूल से न किसी का भी दिल तोड़िये.

वो बुराई करे तुम भलाई करो.
कुछ बनो न बनो नेक इंसा बनो.
जीत होगी सच का ना पथ छोड़िये.
भूल से न किसी का भी दिल तोड़िये.

न किसी घर में नारी का अपमान हो.
सबको इज्जत मिले सबका सम्मान हो.
भेद छोटे बड़ो का मिटा डालिये.
भूल से न किसी का भी दिल तोड़िये.

प्रेम दोगे तभी प्रेम तुम पाओगे.
लेके आये थे क्या जो ले जाओगे.
प्यार की, ममता, मधुमय लहर छेड़िये.
भूल से न किसी का भी दिल तोड़िये.

bhool- se -na- kisee- ka- bhee- dil- todiye

ममता सिंह.
अमेठी

अन्य रचना पढ़े :

आपको bhool se na kisee ka bhee dil todiye/ममता सिंह का हिंदी गीत कैसा लगा अपने सुझाव कमेंट बॉक्स में अवश्य बताये इससे हिंदी रचनाकार का उत्साह बढ़ता है। 

हिंदीरचनाकार (डिसक्लेमर) : लेखक या सम्पादक की लिखित अनुमति के बिना पूर्ण या आंशिक रचनाओं का पुर्नप्रकाशन वर्जित है। लेखक के विचारों के साथ सम्पादक का सहमत या असहमत होना आवश्यक नहीं। सर्वाधिकार सुरक्षित। हिंदी रचनाकार में प्रकाशित रचनाओं में विचार लेखक के अपने हैं और हिंदीरचनाकार टीम का उनसे सहमत होना अनिवार्य नहीं है।|आपकी रचनात्मकता को हिंदीरचनाकार देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए help@hindirachnakar.in सम्पर्क कर सकते है| whatsapp के माद्यम से रचना भेजने के लिए 91 94540 02444, ९६२१३१३६०९ संपर्क कर कर सकते है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.