corona-ek-aaeena

कोरोनावायरस और भारत | एस आर चौहान पथिक

कोरोनावायरस और भारत

कोरोनावायरस को देखो ,
रूप बदल कर आता ।
नये – नये प्रारूप देख कर ,
विज्ञान- तन्त्र चकराता ।।

अनेक विश्व सरकारें हतप्रभ ,
अंकुश अनेक जनता पर लादे
प्रतिबंधों से मिली सफलता ,
कीमत चुकाई, नहीं डिगे इरादे ।।

दो पड़ाव हम झेल चुके हैं ,
ओमी – क्रोन तीसरा सिर पर।
नहीं पता अदॄष्य रूपों का ,
अनुभवी हैं हम, कुचलेंगे विषधर ।।

ओमी क्रोन की सांझ हो गई ,
भारत में अद्भुत क्षमता है ।
यह देश अनुयाई संकट – मोचक का ,
जन-जन संकट – दुख हर्ता है।

कोरोना हो या युद्ध-काल ,
निडर रहे हम सफल रहे ।
ओमी- क्रोन दम तोड़ रहा ,
उसके चाबुक सब विफल रहे

अनुशासन और नियम पालन
श्रमिकों का क्रंदन दुःख अपार ।
बलिदान सभी ने यहां दिए ,
तब संकट – नौका हुई पार ।।

छाया घोर आर्थिक- संकट ,
विपदाओं से सीखा हमने ।
आत्म-नियंत्रण , सशक्त आत्म- बल ,
ओमी – क्रोन को जीता हमने।

कोरोना पीड़ित विश्व के लोगो
योग आत्म- बल संयम सीखो
पथिक गुरु- द्वार खुला है आओ ,
योग – साधना संयम सीखो।।

एस आर चौहान पथिक
एस आर चौहान पथिक



Leave a Reply

Your email address will not be published.