rishte poetry in hindi-रिश्तो पर कविता /कल्पना अवस्थी

rishte poetry in hindi

रिश्तो पर कविता /कल्पना अवस्थी 

 

जिन रिश्तों
को दिल से
ना निभाया जाए

फिर कभी
ऐसे रिश्तों को
ना बनाया जाए

हर रिश्ता
विश्वास की नींव
पर खड़ा है

एक मजबूत
धागे मे , कमजोरी
से जुड़ा है

तो ऐसे
धागे को टूटने
से बचाया जाए

रिश्ता दिमाग से
नहीं दिल से
निभाया जाए 

रिश्ता अँधेरे मे
जलते चिरागसा
हैं

ठंड मे
सुकून देती आग
सा है

सोनेसा  बन इस
आग मे खुद
को तपाया जाए

और षडयंत्र
के जाल से
इसको
 बचाया जाए

फिर कभी
ऐसे रिश्तों को
ना बनाया  जाए

कपड़े की
तरह बदलने लगे  हैं  लोग
रिश्ते

जहाँ ज्यादा
फायदा हो , वही
मुड़ जाते है

अपने पराए
लगते हैं और
परायों से अपनासा जुड़
जाते है

रिश्ता फूलों की
बगिया सा महकाया
जाए

इसमें योजनाओं का
जाल ना बिछाया  जाए

रिश्ता प्रतियोगिता की
तरह ना निभाओ

किसको कब गिराना
है यह जाल
मत बिछाओ

प्यार की माला
को ना  तोड़कर बिखराया जाए

कल्पनाका यह
संदेश लोगों तक
पहुँचाया जाए

जिन रिश्तों
को दिल से
ना निभाया जाए

फिर कभी
ऐसे रिश्तों को
ना बनाया  जाए

rishte-poetry-hindi
कल्पना अवस्थी
 

 

अन्य कविता पढ़े कल्पना अवस्थी की :
आपको rishte poetry in hindi-रिश्तो पर कविता /कल्पना अवस्थी  की हिंदी कविता   कैसी लगी अपने सुझाव कमेन्ट बॉक्स मे अवश्य बताए अच्छी लगे तो फ़ेसबुक, ट्विटर, आदि सामाजिक मंचो पर शेयर करें इससे हमारी टीम का उत्साह बढ़ता है।

हमें विश्वास है कि हमारे लेखक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस  सम्मानित लेखिका  का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है।लेखिका  की बिना आज्ञा के रचना को पुनः प्रकाशित’ करना क़ानूनी अपराध है |आपकी रचनात्मकता को हिंदीरचनाकार देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए help@hindirachnakar.in सम्पर्क कर सकते है|whatsapp के माद्यम से रचना भेजने के लिए 91 94540 02444,  संपर्क कर कर सकते है।

 

One thought on “rishte poetry in hindi-रिश्तो पर कविता /कल्पना अवस्थी

  1. बहुत ही सुंदर है Ma'am| Ma'am मै अभिषेक.Very beautiful poem

Leave a Reply

Your email address will not be published.