teri-sudhi-amrai-se-hindi-kavita

तेरी सुधि की अमराई से | हिंदी कविता | हरिश्चन्द्र त्रिपाठी’ हरीश

तेरी सुधि की अमराई से | हिंदी कविता | हरिश्चन्द्र त्रिपाठी’ हरीश

तेरी सुधि की अमराई से

तेरी सुधि की अमराई से,
मलय सुरभि ले आता है।
मेरी उखड़ी सॉसों को प्रिय,
सन्देश नया दे जाता है।।

जब-जब सोचा,कैसे होंगे,
प्रियतम का कुछ हाल कहो।
दृग-चौखट से खारा ऑसू,
निर्झर सा बह जाता है ।

कभी न सोचा दिन ऐसे भी,
आकर स्वतः चले जायेंगे?
नहीं-नहीं,सम्बन्ध स्नेह का,
अमर सदा हो जाता है ।।

लाड-प्यार से तुमने ही तो,
स्नेहिल भाव दिखाया था,
जब-जब खाओ याद करोगे,
पल-पल प्रिय तड़पाता है ।

नेह-सिन्धु की लहर तुम्हारी,
आकर मुझे भिगो जाती है।
निःशब्द तेरे अरुणाभ अधर,
मन पागल हो जाता है।।

मन विभोर बस इतना कह दो,,
हॅस कर स्नेह जताया क्यों?
कुशल-क्षेम बस चाहूॅ प्रियवर,
गन्तव्य यहीं मिल जाता है।।

अन्य पढ़े :

One thought on “तेरी सुधि की अमराई से | हिंदी कविता | हरिश्चन्द्र त्रिपाठी’ हरीश

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *