Click it!
सीताराम चौहान पथिक Archives - HindiRachnakar

Ish-vandana kavita | ईश- वंदना कविता

Ish-vandana kavita : दिल्ली  के वरिष्ठ साहित्यकार  सीताराम चौहान पथिक की रचना  ईश- वंदना कविता  में नव-युवाओ और राष्ट्रीय नेताओं को संमार्ग  पर चलने और भारतीय संस्कृति अपनाने की प्रार्थना … Read More

Indian Culture Kavita Hindi/ भारतीय संस्कृति 

Indian Culture Kavita Hindi भारतीय संस्कृति  भारत- भाषा- संस्कृति , वेद — ज्ञान– भण्डार । गौ – गंगा – गीता त्रिविध , हैं    अमूल्य    उपहार । गुरु – … Read More

Akhabaar Baal Kavita-सीताराम चौहान पथिक

Akhabaar Baal Kavita अखबार  बाल – कविता बाबा का अखबार खो गया , पारा उनका पार हो गया । मम्मी- पापा पर वह बिगड़े , ला – परवाह हो, तभी … Read More

Baal kavita chhaatr kee vedana/सीताराम चौहान पथिक

छात्र की वेदना (बाल कविता ) Baal kavita chhaatr kee vedana बस्ते भारी हो गये , कोई तनिक उठाए । शिक्षा के अधिकारियों , कुछ तो करो उपाय । पीने … Read More

Jogin Urmila/सीताराम चौहान पथिक

जोगिन ऊर्मिला । (Jogin Urmila) मैं कैसे कहती — आर्य , मुझे    संग     ले   लो । अपनी  पीड़ाएं – क्लेश , मुझे   तुम      दे    दो … Read More

Mrtyu kee he apsara/सीताराम चौहान पथिक

मृत्यु  की हे अप्सरा (Mrtyu kee he apsara) मॄत्यु की हे अप्सरा , आना पथिक के पास । हॄदय में ‌श्री राम हो , सर्वत्र उनका वास । मॄत्यु की—— … Read More

Hindi kavita Giraavat/सीताराम चौहान पथिक

गिरावट ।। (Hindi kavita Giraavat) हम रहे ना हम, तुम रहे ना तुम , जानवर थे हम , जानवर की दुम । इन्सान को क्या हो गया , हैवान अब … Read More

Nirala Poem /सीताराम चौहान पथिक

निराला की पुण्यतिधि पर सीताराम चौहान पथिक के द्वारा रचित कुछ पंक्तियां महाकवि को समर्पित है। “दुःख ही जीवन की कथा रही, क्या कहूं आज, जो नहीं कही” ‌ सरोज … Read More

ghar aur makaan hindi kavita /सीताराम चौहान पथिक

घर और मकान  (ghar aur makaan hindi kavita) घर मकान कब बन गया , भनक   पड़ी नहिं कान । चूना   पत्थर ईंट मिलि , चुरा    ले    गए   शान … Read More

seema se sainik/सीताराम चौहान पथिक

सीमा से सैनिक ।। (seema se sainik) जागो जागो देश -वासियो , सीमा  से सैनिक आया है । आंचल मां का मैला ना हो  , स्मरण  तुम्हें करवाया है । … Read More

Namami ganga kee vyatha/सीताराम चौहान पथिक

गंगा की व्यथा ।। (Namami ganga kee vyatha) युगों- युगों  से  गंगा  बहती , जन – सन्देश       सुनाती । जागो    मेरे     भारतवासी , मां    गंगा  … Read More

kavita-sangrah/कविता- संग्रह प्रकाशित होने पर

कविता- संग्रह प्रकाशित होने पर । कविता- संग्रह हुआ प्रकाशित कवि के जीवन की सर्वाधिक महत्वपूर्ण घटना थी जिससे , यह संग्रह होता सम्मानित । सोचा    था  समाज    … Read More

kaun thai ve log /कौन थे वे लोग-सीताराम चौहान पथिक

  कौन थे वे लोग ॽ भेड़िए की खाल में आए भारत की अस्मिता को रौंद कर चले गए । कौन थे वे लोग ॽ सीधा- सच्चा- सरल किसान खेती … Read More

parakram diwas kavita / वीर सुभाष -सीताराम चौहान पथिक

parakram diwas kavita : सुभाष  चंद्र  बोस  की  जयंती  हर  वर्ष  23  जनवरी  को  मनाई  जाती  है लेकिन इस  वर्ष  हिंदुस्तान की सरकार ने निर्णय लिया है कि नेताजी की … Read More

corona jagrukta par kavita- कोरोना – संकट

corona jagrukta par kavita कोरोना-संकट  कीटाणु- बम विस्फोट हुआ कोरोना विषाणु का जन्म हुआ । संक्रामक  और दुष्ट कीट ने , जग के कोने- कोने को छुआ। अखिल विश्व में … Read More

error: Content is protected !!

You have successfully subscribed to the newsletter

There was an error while trying to send your request. Please try again.

HindiRachnakar will use the information you provide on this form to be in touch with you and to provide updates and marketing.

Subscribe to Hindi Rachnakar to get latest Post updates